Home अभी अभी BHU: FB पर A. प्रोफेसर के पोस्ट और कमेंट से फैला आक्रोश

BHU: FB पर A. प्रोफेसर के पोस्ट और कमेंट से फैला आक्रोश

1.40K
0

आशुतोष त्रिपाठी

वाराणसी: फेसबुक अकाउंट पर बीएचयू के एक असिस्टेंट प्रोफेसर द्वारा वरिष्ठ प्रोफेसर और एक छात्रा की फोटो के साथ आपत्तिजनक कमेंट पोस्ट का मामला सामने आया है।

आरोप है कि बीएचयू समाजशास्त्र विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर मनोज कुमार वर्मा अपनी हरकतों को लेकर अक्सर विवादों में रहते है। विभाग में चर्चा है कि इनकी हरकतों के चलते ही इनकी न तो छात्र- छात्राओं से बनती है और न ही विभाग के अन्य प्रोफेसरों से।

विभाग के छात्रों ने बताया कि प्रो० वर्मा की हरकतों पर वरिष्ठ प्रो० द्वारा अक्सर समझाया जाता था। कुछ दिन पूर्व प्रोफेसर का समझाना वर्मा को इतना नागवार गुजरा कि उन्होंने वरिष्ठ प्रो० को बदनाम करने के लिए फेसबुक पर उनकी और एक छात्र की एक फोटो पोस्ट कर आपत्तिजनक कमेंट की जिससे परिसर का माहौल गर्म हो गया। इस पोस्ट पर उन्हें तीखी आलोचना का सामना करना पड़ रहा हैं।

परिसर में भड़का आक्रोश

फेसबुक पर असिस्टेंट प्रोफेसर वर्मा की पोस्ट देखने के बाद बीएचयू परिसर में छात्रों और कर्मचारियों में जबरदस्त आक्रोश फैल गया है। चर्चा है कि असिस्टेंट प्रोफेसर के इस कृत्य से आक्रोशित छात्र उन्हें सबक सिखाने की सोच रहे है।

FB पर भी दिखा आक्रोश

इस पोस्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए नितेश कुमार नाम के एक फेसबुक यूजर ने लिखा, “काशी हिंदू विश्वविघालय के समाजशास्त्र संकाय का एक प्रोफेसर वर्मा पागल हो गया है. वह ….. खाने के बाद जल्दी ठीक हो जाएगा.”

अभय प्रताप सिंह ने लिखा है, “….. नही भाईसाहब सबक सिखाना है लिखित माफी मांगे”

ताज मोहम्मद ने लिखा,”मैं 1997 छात्र जीवन से जोशी सर के सानिध्य व मार्गदर्शन में रहा,मैंने हमेशा महसूस किया कि सर का प्रत्येक छात्र-छात्राओं के प्रति एक अभिभावक जैसा बर्ताव रहा। छात्र-छात्राओं की शिक्षा के साथ ही सामाजिक व राजनैतिक रुचियों को ध्यान में रखते हुये उन्होंने हमेशा एक पिता की तरह स्नेह भरा मार्गदर्शन किया है। ऐसे श्रद्धेय व मार्गदर्शक गुरु के प्रति अभद्र टिप्पणी कत्तई बर्दास्त नही किया जाना चाहिए। टिप्पणी करने वाले ने गुरु-शिष्य के रिश्ते की पवित्रता पर ही नही बल्कि सर्वविद्या की राजधानी को भी कलंकित करने का अक्षम्य दुस्साहस किया है।

वहीं, फजीहत होने के बाद आरोपी वर्मा ने पोस्ट को डिलीट कर दिया।

(1404)

Close