Home अभी अभी IIT BHU का प्रत्येक छात्र CIL का अध्यक्ष बनने में सक्षम है: किसने कहा- जानें
IIT BHU का प्रत्येक छात्र CIL का अध्यक्ष बनने में सक्षम है: किसने कहा- जानें

IIT BHU का प्रत्येक छात्र CIL का अध्यक्ष बनने में सक्षम है: किसने कहा- जानें

33
0

आशुतोष त्रिपाठी

वाराणसी। आईआईटी बीएचयू स्थित खनन अभियांत्रिकी विभाग में शुक्रवार को ’कोयला खनन: वर्तमान चुनौतियां और संभावनाएं’ विषय पर शताब्दी व्याख्यान श्रृंखला का आयोजन  हुआ। कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि ए.के. झा, अध्यक्ष, सीआईएल ने व्याख्यान देते हुए कहा कि यहां मौजूद प्रत्येक छात्र सीआइएल का अध्यक्ष बनने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि जब कोयला खनन एक निजी उद्योग था तब राष्ट्रीयकरण के बाद श्रमिकों की स्थिति दयनीय थी। अब हमारे पास 700 खानों से ऊपर हैं। हमारे पास भारतीय आवश्यकता के सौ वर्षों के लिए 315 बिलियन टन कोयला भंडार पर्याप्त है। सीआईएल दुनिया का सबसे बड़ा कोयला उत्पादक है, हमारे देश की 84 आवश्यकताओं को इस कंपनी द्वारा ही पूरा किया जाता है।

उन्होंने आगे कहा, जब आप बाजार जाते हैं तब आप अपनी कीमत जानते हैं। कोल इंडिया स्टॉक मार्केट में रु 15000 करोड़ है लेकिन इसे 15 गुना अधिक सदस्यता प्राप्त हुई। प्रबंधन के बहुत बुरे परिदृश्य से यह इस उत्कृष्ट स्तर पर आ गया है। वर्ष 2000 में, 40 भारतीय आबादी को बिजली मिल रही थीजबकि 2007 में यह 80 हो गई थी। इस वृद्धि में थर्मल पावर स्टेशनों की हिस्सेदारी 72 थी। 150 मिलियन टन की धुन में स्टील ग्रेड के लिए कोयले का आयात आवश्यक है जबकि बाकी 150 मिलियन टन का अंतर जो अन्य उद्देश्यों के लिए आयात किया जाता है, स्वदेशी उत्पादन द्वारा भरा जा सकता है।

कोल इंडिया को अपने विशाल लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अभी भी बहुत सारे अच्छे और प्रतिभाशाली खनन इंजीनियरिंग की आवश्यकता है। उन्होंने देखा कि सॉफ्टवेयर में खनन इंजीनियरों का स्थानांतरण न तो उद्योग के लिए अच्छा है और न ही खनन इंजीनियरों के लिए। खनन केवल एक पेशा नहीं है, यह राष्ट्र के लिए ऊर्जा प्रदाता के रूप में एक चुनौती है। खनन इंजीनियर अपने सभी साथी नागरिकों को उनके कठिन जीवन के बावजूद अच्छा जीवन प्रदान करने के लिए। कोई भी पेशा आपको इस प्रकार की संतुष्टि प्रदान नहीं कर सकता है, लेकिन इस संतुष्टि को पूरा करने के लिए खनन इंजीनियरों को इस कठिन जीवन के लिए तैयार रहना होगा। आरएंडडी को उतना महत्व नहीं मिल रहा है जितना मिलना चाहिए।

आईआईटी बीएचयू को वास्तविक जीवन की समस्या को ले कर इस संबंध में एक महान भूमिका निभानी है। 2030 में 1300 मिलियन टन कोयले की जरूरत है। यूरिया को गैस और गैस को यूरिया में बदलकर यूरिया का उत्पादन किया जाना है। इस संबंध में एक परियोजना बनाई गई है। कोल बेड मीथेन जो विदेशों में एक सिद्ध तकनीक है, पायलट प्रोजेक्ट पर भी आजमाई जा रही है। वर्ष 2024-25 तक, 1 बिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य एक प्रतिभाशाली खनन टीम के बिना संभव नहीं हो सकता है। बीएचयू खुद उद्योग में बहुत सम्मान करता है। इसलिए, सीआईएल आईआईटी बीएचयू को अपने आरएंडडी एंडोर्समेंट में मदद करने के लिए तैयार है, लेकिन इंस्टीट्यूशन को भी इंडस्ट्री में काम करने के लिए करीब आना होगा।

यह उद्योग और संस्थानों की जिम्मेदारी है कि वे उन व्यक्तियों की मदद करें जो अपने दो समय के भोजन को ठीक से प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। हमें एक ऐसा रूढ़िवादी सम्मेलन बनाने की कोशिश करनी चाहिए जो हर शरीर को विकसित करे। सोशल कॉरपोरेट जिम्मेदारी अपने सभी क्षेत्रों में ली जाएगी। एक मामले के रूप में, झरिया कोयला क्षेत्र में पुनर्वास के लिए एक मास्टर प्लान जो पिछले सौ वर्षों से चल रहा है, रुपये के लिए तैयार है। 6000 करोड़ इसका उदाहरण है। हम यह देखने के लिए एक अतिरिक्त मील जाएंगे कि आपके इंस्टीट्यूशंस को आपके सभी प्रयासों में सफलता की कामना करने वाले हमारे एड्स के साथ उच्चतम संभव स्तर तक जाना चाहिए। कोल इंडिया लिमिटेड द्वारा हर साल 700 से अधिक जूनियर संस्थान प्रशिक्षुओं को नियुक्त किया जाएगा।

स्वागत भाषण में माइनिंग इंजीनियरिंग विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो एसके शर्मा ने कहा कि यह इस विभाग के इतिहास में एक ऐतिहासिक क्षण है जिसे 1923 में स्थापित किया गया था। विभाग ने 1969 में अपना पहला डॉक्टरेट, 1966 में M.SC. खनन इंजीनियरिंग का निर्माण किया। यह विभाग कोयला खदान के राष्ट्रीयकरण में उनके योगदान के लिए जाना जाता है। भारत और विदेशों में इसके स्नातकों का योगदान अच्छी तरह से स्थापित है। 1980 के दशक में संख्यात्मक मॉडलिंग यहां बताई गई है जिसे बाद में अन्य संस्थानों द्वारा अपनाया गया था।

आईआईटी बीएचयू में एक समय में 6000 छात्र और प्रति वर्ष 1000 छात्र पीएचडी छात्र हैं। हमें वित्तीय वर्ष के समापन से पहले अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एनसीएल को बधाई देना चाहिए। हम आईओटी, रोबोटिक्स और उभरते क्षेत्रों जैसे एआई, वर्चुअल रियलिटी आदि पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। विभाग के भावी छात्र वहां के क्षेत्रों में निवेश करेंगे। शैक्षिक चुनौतियां उद्योग की उभरती जरूरतों के साथ सामना करना है जो केवल उनके द्वारा आवश्यक औद्योगिक कौशल के 30 क्षेत्रों में प्रशिक्षित जनशक्ति प्राप्त करती हैं। प्रो बी.के. श्रीवास्तव ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

(33)

Close