Home अभी अभी ये शर्बत बनायेगे गर्मी के मौसम को ख़ुशगवार- डॉ अजय कुमार
ये शर्बत बनायेगे गर्मी के मौसम को ख़ुशगवार- डॉ अजय कुमार

ये शर्बत बनायेगे गर्मी के मौसम को ख़ुशगवार- डॉ अजय कुमार

69
0

आशुतोष त्रिपाठी

वाराणसी: गर्मियों की तपती धूप में लगातार पसीना निकलने से शरीर में पानी की कमी यानी डिहाइड्रेशन का खतरा सबसे अधिक रहता है। ऐसे मौसम में अपने सेहत का ध्यान रखना काफी मुश्किल होता है। इसलिये गर्मियों के मौसम में पानी की कमी को दूर करने के लिये केवल कोल्ड ड्रिंक या आइसक्रीम में अलावा और भी बहुत से प्राकृतिक पेय है जिनके सेवन से हम गर्मी के असर को दूर कर सकते है। ग्रीष्म ऋतु अप्रैल से शुरू होकर लगभग जून के माह में ख़त्म हो जाती है।

इस ऋतु में सूर्य उत्तर दिशा की तरफ होने से उसकी प्रचंड गर्मी के कारण शरीर का जलीयांश कम हो जाने से जीवों में रूखापन बढ़ता है। इसलिये इस मौसम में ऐसी सब्ज़ियों, फल और पेय पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए, जिनमें ज़्यादा मात्रा में पोषक तत्व और पानी मौजूद हों। इस बारे में बता रहे है चौकाघाट स्थित राजकीय स्नातकोत्तर आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय , वाराणसी के कायचिकित्सा एवं पंचकर्म विभाग के डॉ अजय कुमार-

मट्ठा –

मठ्ठा यानी छाछ, गर्मियों के लिये अमृत के समान माना जाता है।  छाछ जहां शरीर को ठंडक पहुंचाने का काम करता है वहीं यह शरीर के लिए काफी फायदेमंद भी होती है। यह शरीर में ठंडक बनाए रखकर गर्मी के दुष्प्रभाव से बचाता है।मट्ठा कई सारे पौष्टिक गुणों से भरा हुआ है विशेष रूप के गाय के दही से बना मट्ठा।

मट्ठा पीने से पाचन शक्ति सही होती है, जठराग्नि की वृध्दि होती है, साथ ही इसमे कैल्शियम के अलावा प्रोटीन, विटामिन बी और पोटैशियम की प्रचुर मात्रा होती है, जिसके कारण हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। मठ्ठा पीते ही शरीर में ताजगी आ जाती है और प्यास शांत हो जाती है। साथ ही पाचन के लिए भी फायदेमंद होता है।

तरबूज का रस-

 तरबूज गर्मियों में सबसे अधिक बिकने वाला फल है। तरबूज 92 प्रतिशत पानी और महत्वपूर्ण इलेक्ट्रोलाइट्स से पूर्ण होता है, इसलिए गर्मियों के दौरान डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए तरबूज एक अच्‍छा स्रोत हो सकता है। तरबूज़ के रस में  विटामिन सी, विटामिन बी5, बी1, बी2, बी3 और बी6 की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा इसमे पानी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। प्रतिदिन 2 से 3 गिलास जूस पाइन से शरीर में पानी के साथ उर्जा भी मिलती है।

 

नारियल का पानी-

 सामान्यत: एक नारियल में लगभग 200 से 250 मिलीलीटर पानी होता है। नारियल पानी में कम कैलोरी होने की वजह से ये वजन घटाने में भी आपकी मदद करता है। इस पानी में पोटेशियम, मैग्नीज, सोडियम, कैल्शियम के अलावा प्रोटीन और फाइबर भी होता है। नारियल का पानी में सम्पूर्ण पोषक तत्व पाए जाते है। नारियल पानी आपको ठंडक देने के साथ ही एनर्जी लेवल को भी बढ़ाता है।

गर्मियों में नारियल पानी पीते रहने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। शरीर में पानी की कमी हो जाने पर, डायरिया हो जाने पर, उल्टी होने पर या दस्त होने पर नारियल का पानी पीना फायदेमंद रहता है। इससे पानी की कमी तो पूरी होती ही है साथ ही ज़रूरी लवणों की मात्रा भी संतुलित बनी रहती है।

पुदीना-

 गर्मी के दिनों  में तेज़ धूप और  लू से बचने के लिए पुदीने का इस्तेमाल किया जाता है। इसके रस को पीकर बाहर निकलने से धूप लगने का डर भी कम रहता है। इसका जूस पीने से शरीर को ठंडक मिलती है और गर्मी से राहत मिलती है।  गर्मी के मौसम में  दही में  पुदीना डाल कर खाना चाहिए. इससे शरीर को ठंडक मिलती है। यह पाचन को भी दुरुस्त रखता है।

 

सत्तू-

सत्तू एक शुद्ध देसी पेय है। गर्मियों में प्यास बुझाने के लिए कोल्ड ड्रिंक्स की जगह चने के सत्तू का शर्बत लाभदायक होता है। सत्तू से बना शरबत स्वास्थ्य और शरीर के लिए बहुत लाभकारी होता है। चने के सत्तू में बहुत से मिनरल्स जैसे आयरन, मैग्नीशियम और फॉस्फोरस पाया जाता है जो शरीर को इंस्टेंट एनर्जी देने का कम करता है।

विशेषकर इसमें नींबू और नमक मिलाकर पीया जाए तो शरीर की थकान मिटाकर एनर्जी देने में मदद करता है। कुछ लोग इसमें शक्कर मिला कर तो कुछ लोग नमक और मसाले मिला कर खाते हैं। यह गर्मियों के मौसम में काफी फायदेमंद होता है। यह पेट को ठंडा रखने में भी मदद करता है जिससे पेट से संबंधी कई बीमारियाँ दूर हो जाती है। इसके सेवन से शरीर का तापमान नियंत्रित रहता है।

निम्बू पानी-

नींबू पानी को देशी कोल्ड्र‍िंक भी कहा जाता है। नींबू पानी गरमी में राहत दिलाता है। शरीर में गरमी और उमस के चलते कम हुए लवणों की मात्रा को भी नियंत्रित करता है। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और मिनरल्स से भरपूर यह पेय सेहत और सौंदर्य से जुड़े तमाम फायदे देता है। नींबू विटामिन सी का बेहतर स्रोत है। साथ ही, इसमें विभिन्न विटामिन्स जैसे थियामिन, रिबोफ्लोविन, नियासिन, विटामिन बी- 6, फोलेट और विटामिन-ई की थोड़ी मात्रा मौजूद रहती है।

                         आम पन्ना-

कच्चे आम से बना आम का पन्ना बच्चों और खासकर भारतीयों महिलाओं का एक पसंदीदा पेय है। इसमें तमाम औषधीय गुणों की मौजूदगी इसे गर्मियों का एक आवश्यक पेय पदार्थ बनाती है। इसमें मीठी सुगंध, बेहतरीन स्वाद और पौष्टिकता तीनों का अद्भुत मिश्रण होता है। गर्मी की तेज़ धूप में यह शरीर को शीतल और हाइड्रेट रखने का काम करता है। इसके साथ ही गर्म मौसम के दौरान शरीर को आवश्यक इलेक्ट्रोलाइट्स भी प्रदान करता है।

आम पन्ना कार्बोहाइड्रेट, विटामिन ए, विटामिन-बी 1, बी 2 और विटामिन-सी आदि से भी भरपूर है। इसमें आयरन, सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और कैल्शियम जैसे खनिज भी मौजूद होते हैं। गर्मियों में आम का पन्ना पीने से पाचन सही रहता है। इसके अलावा इससे कब्ज़ और पेट की समस्याएं भी दूर रहती हैं।  कच्चे आम का पन्ना गर्मियों में हमें डिहाइड्रेशन और हीट स्ट्रोक की समस्या से बचाता है, साथ ही यह हमें कूल रखता है।

 

 

(69)

Close