Home अभी अभी चंदौली: जिंदा जले किशोर की मौत, तो क्या यादवों को फंसाने की थी साजिश…?
चंदौली: जिंदा जले किशोर की मौत, तो क्या यादवों को फंसाने की थी साजिश…?

चंदौली: जिंदा जले किशोर की मौत, तो क्या यादवों को फंसाने की थी साजिश…?

139
0

आशुतोष त्रिपाठी

चंदौली। सैयदराजा कस्बे से सटे छतेमपुर गांव के समीप गंभीर रुप से आग में झुलसे किशोर की मंगलवार को कबीरचौरा अस्‍पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। किशोर की मौत के बाद उसका शव बीएचयू अस्‍पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

दरअसल सैयदराजा थाना क्षेत्र के छतेमपुर गांव के समीप रविवार की भोर करीब साढ़े चार बजे खालिक अंसारी पुत्र जुल्फकार अंसारी संदिग्ध परिस्थितियों में जलकर बुरी तरह झुलस गया था। जानकारी होने के बाद घटना को लेकर क्षेत्र सनसनी फैल गई और मौके पर भारी पुलिस बल की तैनानी भी कर दी गई थी।

हालांकि पिता के मुताबिक तीन चार युवक उसका मुंह बांधे थे और उसके उपर मिट्टी का तेल छिड़कर जला दिए। वहीं किशोर के द्वारा वारदात को लेकर अलग अलग बयान देने से पुलिस को मामले की जांच में काफी मशक्‍कत भी करनी पड़ी।

घटना फर्जी गढ़ी जा रही है- संतोष कुमार सिंह,एसपी

कतिपय असामाजिक तब तत्वों द्वारा इस घटना को तूल देने का प्रयास किया जा रहा है। शुरुआती दौर में युवक के परिजनों द्वारा मनराजपुर  गांव के यादवों का नाम बताया गया। इसके बाद युवक ने सुनील नाम बताया। युवक के द्वारा तीन घटना स्थल बताया गया। जो सही नहीं पाए गए। घटना स्थल चौथी जगह पाया गया और एक चश्मदीद भी। जो पेशे से हाकर का काम करता है।

दिनेश मौर्या उसका नाम है 4:30 बजे की घटना थी मजार के अंदर चप्पल निकालकर व्यवस्थित तरीके से युवक अंदर गया और इसके द्वारा खुद को आग लगा ली गयी। आग लगाने के बाद जब यह सड़क पर दौड़ा उसी समय दिनेश मौर्या वहां मौजूद था अख़बार लेने के लिए सैयद राजा जा रहा था। उसने युवक को पागल समझा। दिनेश मौर्या ने पूरे घटना की चश्मदीद देते हुए बताया कि ना तो यहां कोई मोटरसाइकिल की ना ही कोई बाहरी व्यक्ति था लड़का अकेला था। बाद में पता चला कि सैयदराजा के लड़के के साथ यह घटना हुई है। लगभग 12-1 बजे तक घटना सामान्य थी।

बाद में असामाजिक तत्वों द्वारा युवक और उसकी मां को सिखाने का प्रयास किया गया इसमें जय श्रीराम शब्द जोड़ देने से घटना को बेहतर तरीके से उठाने में मदद मिल सकती है। घटना को गलत प्रसारित किया जा रहा है मैं निंदा करता हूं और कड़े शब्दों में कहता हूं कि यह फर्जी गढ़ी जा रही है। जिसका सत्यता से कोई लेना-देना नहीं है। सोशल मीडिया पर जो इस तरह की कहानी गढ़ने का प्रयास किया है उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

(139)

Close